आ गुदगुदी करें

आ उदासी को गुदगुदी करें
आ आंसुओ में हंसी भरें
कर दे जो खुश तुझे
कर दे जो खुश् मुझे
इस होश में ऐसी बेखुदी भरें
आ उदासी को गुदगुदी करें
दिल में छुपा है गम
उसको निकाल दें
चिंता जो है सारी
हवा में उछाल दें
ले उड़े जो तुझे
ले उड़े जो मुझे
कोई हवा ऐसी भरें
आ उदासी को गुदगुदी करें
जब उदासी को हंसी आएगी
तभी जिंदगी में ख़ुशी छायेगी
हँसने दे ये तुझे
हँसने दे ये मुझे
इसे इतना दुखी करें
आ उदासी को गुदगुदी करें
—ध्यानू

8 Likes · 2 Comments · 68 Views
मैंने कब कहा तू मुझे अपने सा भगवान बना दे नाचीज हूँ, नाचीज की, नाचीज...
You may also like: