*आज़ का सच*

भोली-भाली सूरत होती
काली लेकिन सीरत होती
हो अंतर में शैतान बसा
घर में रब की मूरत होती
*धर्मेंद्र अरोड़ा*

Like Comment 0
Views 11

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share