गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

आज़ाद गज़ल

फ़ले फूले अमीर और गरीबों का भी गुजारा हो
डूबते हुए को कम से कम,तिनके का सहारा हो ।

हर तरफ चैन-ओ-अमन और महफ़ूज हो वतन
या खुदा अपने मुल्क मे एसा भी तो नजारा हो ।

ज़ुल्म मिटें,इल्म बढ़े,और हो हरकोई खुशहाल
मिल-जुलकर सब रहें यहाँ,दिल में भाईचारा हो ।

रोटी,कपड़ा और मकान,हो न्याय में सब समान
न कोई गरीब, न कोई बेबस, न कोई बेचारा हो ।

चाहे हो कोई दिन ,वार,पर्व या कोई भी त्योहार
रौशन हर मंदिर ,मस्जिद, चर्च और गुरुद्वारा हो ।
-अजय प्रसाद

2 Likes · 2 Comments · 27 Views
Like
331 Posts · 8.9k Views
You may also like:
Loading...