.
Skip to content

आसमान में चितकबरे चित्र!

मुकेश कुमार बड़गैयाँ

मुकेश कुमार बड़गैयाँ

कविता

May 9, 2017

आसमान में
बादलों के चितकबरे चित्र
कभी लगे कि शेर
तो कभी सियार—!
कभी कभी माँ गोद में लिए
नन्हे शिशु को करतीं दुलार
कभी राजा बैठा सिंहासन पर
कभी तपस्वी आसन पर
पढ़ते हजारों लोग नमाज
बच्चों के बीच कभी नाचे सेन्टाक्लाॅज!
गदाधारी हनुमान कहते जय श्री राम
वीर शिवाजी घोड़े पर
कहते आराम हराम
कभी नदी में नाव
बैठा एक मुसाफिर पेड़ की छांव
भारी भरकम हाथी-भारी उसके पांव
कुछ झोपड़ियाँ ज्यों छोटा सा गाँव
देखो भटकता आदमी
उसका ठौर न कोई ठांव
हाँ—
आसमान में एक दुनिया दिखती है
एक जीवन प्रतीत होता है
कोई हँसता है कोई रोता है
कहीं मुनाफा कहीं आदमी सब कुछ खोता है।
अचानक आसमान साफ—
बादल छूमंतर—
आसमान के चित्रों और धरा के जीवन में क्या है कोई अंतर?
यहाँ हम पड़े हुए ऊपर देखते हैं!
और वहां;वह ऊपर से देखता है?

मुकेश कुमार बड़गैयाँ”कृष्ण धर द्विवेदी

mukesh.badgaiyan30@gmail. Com

Author
मुकेश कुमार बड़गैयाँ
I am mukesh kumarBadgaiyan ;a teacher of language . I consider myself a student & would remain a student throughout my life.
Recommended Posts
कब तक
कभी सती बना चिता में जला दिया कभी जौहर के कुंड मे कूदा दिया छीन ली साँसें कोख में ही कभी कभी आँख खुलते ही... Read more
क्रांतिकारी मुक्तक
बहर- *१२२२ १२२२ १२२२ १२२२* कभी अंग्रेज़ का हमला, कभी अपने पड़े भारी। कभी तोड़ा वतन को भी, कभी गद्दार से यारी। कलम का क्रांतिकारी... Read more
ग़ज़ल : दिल में आता कभी-कभी
दिल में आता कभी-कभी जग न भाता कभी-कभी । दिल में आता कभी-कभी ।। देख छल-कपट बे-शर्मी,, मन तो रोता कभी-कभी ।। आकर फँसा जहाँ--तहाँ,,... Read more
ज़िन्दगी कभी-कभी अजनबी सी लगती है...
अपनी होकर भी, ना जाने क्यूँ.... किसी और की लगती है.... ये ज़िन्दगी कभी कभी…. हाँ.....कभी-कभी अजनबी सी लगती है..... धड़कता तो है दिल अपने... Read more