.
Skip to content

आषाढ़ माह की प्रथम वर्षा

लक्ष्मी सिंह

लक्ष्मी सिंह

कविता

June 28, 2017

????
आषाढ़ माह की प्रथम वर्षा,
खिली प्रकृति सर्व जग हर्षा।

नभ से वर्षा अमृत की धारा,
पीकर तृप्त हुआ जग सारा।
पूर्ण हुआ कृषक की लालसा,
कविकालिदास की महत्वकांक्षा।

आषाढ़ माह की प्रथम वर्षा,
खिली प्रकृति सर्व जग हर्षा।

काँधे हल लिए चला हलवाहा,
पायल पहन कर नाचे पपीहा।
स्वागत गीत सुनाये कोकिला,
मिट्टी की खुश्बू हवा में घुला।

आषाढ़ माह की प्रथम वर्षा,
खिली प्रकृति सर्व जग हर्षा।

पहाड़ी के चोटी पे झुका मेघा,
नभ खिला इन्द्रधनुष की आभा।
तपती धरा को मिली शीतलता,
प्रकृति ओढ़ी फिर चुनर नया।

आषाढ़ माह की प्रथम वर्षा,
खिली प्रकृति सर्व जग हर्षा।

हर्षित,पुलकित हर नव यौवना,
बुढ़ापा झूमकर गाने लगा गाना।
कागज की नाव संग बचपन लौटा,
वृक्ष-वृक्ष नव किशलय दल फूटा।

आषाढ़ माह की प्रथम वर्षा,
खिली प्रकृति सर्व जग हर्षा।

ज्येष्ठ बीता आया आषाढ़ महीना,
नभ अच्छादित बादल का गर्जना।
अमराई में झूले आमों का झूमका,
जामुन के काले-काले फल पका।

आषाढ़ माह की प्रथम वर्षा,
खिली प्रकृति सर्व जग हर्षा।

बाग-बगीचा लगता खीला-खीला,
पुष्प-किरीट को नव जीवन मिला।
सबका उद्धार व स्वप्नों को सकारा,
जन-जन नव जीवन,उल्लास भरा।

आषाढ़ माह की प्रथम वर्षा,
खिली प्रकृति सर्व जग हर्षा।
????—लक्ष्मी सिंह ?☺

Author
लक्ष्मी सिंह
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank... Read more
Recommended Posts
प्रकृति परिवेश वर्षा से रंग - बे गुलशन खिलता
प्रकृति परिवेश वर्षा से रंग-बे गुलशन खिलता। देखकर के ये सब जग सारा झूम उठता ।। हे प्रभू प्रकृति को सजाया सँवारा तुमने ऐसा ।... Read more
बारिश
Neelam Sharma गीत Jul 22, 2017
बारिश उमड़ उमड़ रहे घुमड़ घुमड़, घन बरसाने को वर्षा घरड़ घरड़ सुन गरज गरज, प्यासी धरा उर हर्षा। छम छम बूंदें बाज रहीं, थिरके... Read more
प्रकृति
शिखरिणी छंद । सघन वन । खोते अस्तित्व । भीगे नयन ।। कैसे हो वर्षा । खत्म होते पेड़ । मन तरसा ।। हमें है... Read more
प्रकृति
शिखरिणी छंद । सघन वन । खोते अस्तित्व । भीगे नयन ।। कैसे हो वर्षा । खत्म होते पेड़ । मन तरसा ।। हमें है... Read more