आश्रयहीन अभिलाषाएं

शेष नही कही समर्पण है ।
मन कोने में टूटा दर्पण है ।
आश्रयहीन अभिलाषाएं ,
अश्रु नीर नैनो से अर्पण है ।

…विवेक दुबे”निश्चल”@.

Like 3 Comment 2
Views 6

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing