आलू राजा (106)

सबके प्यारे आलू राजा
रहते हैं ये हरदम ताज़ा

लौकी तोरी इन्हें न भाती
भिंडी पर इनसे कतराती

गोभी आलू बिना अधूरी
बच्चे खाते आलू पूरी

आलू की जब बने पकौड़ी
नहीं किसी से जाये छोड़ी

स्वाद न आलू बिन थाली का
टिक्की और समोसा फीका

आलू जी की महिमा न्यारी
रखते हर सब्जी से यारी

18-08-2020
डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद

Like 2 Comment 0
Views 8

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share