.
Skip to content

आरजूं दिल कि

दुष्यंत कुमार पटेल

दुष्यंत कुमार पटेल "चित्रांश"

गज़ल/गीतिका

November 13, 2017

तरही गज़ल
2122 1212 22

फैसला है यहीं दीवाने का l
शहर से गाँव लौट आने का ll

सामने है चुनाव फ़िर कोई l
*बख्त जागा गरीबखाने का* ll

साजिशे रच रहा है इंसाँ भी l
अब खुदी को खुदा बनाने का ll

उम्रे रफ्ता न याद कर ऐ दिल l
वक्त है हँसने मुस्कुराने का ll

जब भी ऐ दिल उदास हो जायें l
वक्त है समझो गीत गाने का ll

मुश्किलों पे भी हँसके जी लेंगे l
साथ हो गर मेरे दीवाने का ll

आरजूं दिल कि बस यहीं यारों l
मिलके सबसे गले लगाने का ll

✍दुष्यंत कुमार पटेल’ *चित्रांश* ‘

उम्रे रफ्ता – *गुजरी ज़िंदगी*
आरजूं – *तमन्ना* *चाहत*
बख्त – *किस्मत*

Author
दुष्यंत कुमार पटेल
नाम- दुष्यंत कुमार पटेल उपनाम- चित्रांश शिक्षा-बी.सी.ए. ,पी.जी.डी.सी.ए. एम.ए हिंदी साहित्य, आई.एम.एस.आई.डी-सी .एच.एन.ए Pursuing - बी.ए. , एम.सी.ए. लेखन - कविता,गीत,ग़ज़ल,हाइकु, मुक्तक आदि My personal blog visit This link hindisahityalok.blogspot.com
Recommended Posts
ज़िंदगी जंग है
तरही गजल 2122 1212 22 ज़िंदगी जंग है सँवरता हूँ l मुश्किलों पे भी मैं निखरता हूँ ll तू वफ़ा कर या तो फ़ना कर... Read more
II सजा दिल लगाने की II
साथ मेरे मिली उसको, सजा दिल लगाने की l मुझको पता उसने मुझसे, यह छुपाया होगा ll बात कर लेता हूं अपनी, मैं मेरी ग़ज़ल... Read more
आसमाँ का चाँद
ग़ज़ल बह्र 2122 2122 2122 तुम सलोनी शाम जीवन की फज़ा हो l इश्क तेरा दिलकशी हो दिलकुशा हो ll इस हरीमें इश्क का तुम... Read more
II दिल के काबिल II
दिल के काबिल नहीं पर बिठाया उसे l बुलंदियों से भी ऊपर उठाया उसे ll मुझसे ही पूछता है वो पहचान अब l नींव का... Read more