कविता · Reading time: 1 minute

आरक्षण

आरक्षण क्यों कर लाये थे , सबको आज समझना होगा ।
देष मॆ पिछडापन अधिक है , इसलिये लागू करना होगा ॥
सत्तर साल के बाद भी देखो , पिछडापन दूर नही कर पायें है ।
पिछ्डेपन के नाम पर नेता , बस अपना घर भर पायें है ॥
जातिगत आरक्षण का फल , वो परिवार उठाते है ।
जो अपने खुद के समाज मॆ , अव्वल पाये जाती है ॥
गरीब बेचारा पढ़ नहीँ सकता , तो आरक्षण भी मिल नहीँ सकता ।
उसी जात के अमीर का बेटा , आरक्षण से अफसर बनता ॥
सोचो अक्षम व्यक्ति को देते है , जब हम देश की जिम्मेदारी ।
तभी तो वो अफसर बनता है , घूस खोर और व्यभिचारी ॥
यही वजह है सत्तर साल मॆ , पिछडापन दूर नहीँ कर पाये ।
देश पिछड़ कर भ्रष्ट हो गया , भ्रष्टता हर घर पैर जमाये ॥
आरक्षण से बना डाक्टर , क्या इलाज सही कर पाता है ।
यदि सही है फ़िर नेता खुद का इलाज क्यों विदेश मॆ करवाता है ॥

विजय बिज़नोरी

64 Views
Like
You may also like:
Loading...