Skip to content

आरएसएस नंगा नाच रहा ।

प्रदीप कुमार गौतम

प्रदीप कुमार गौतम

कविता

July 18, 2017

लोकतंत्र पर देखो भाई
आरएसएस नंगा नाच रहा
अपनी बात को रखने पर
खुले में पिटवा रहा
रोहित ऊना की घटनाओं को
नित्य रोज दोहरा रहा
सहारनपुर की जब बारी आई तो
माइक हाथ से छिनवा रहा
बाबा साहेब का नाम ले लेकर
संविधान की धज्जियां उड़ा रहा ।
शब्बीर पुर पर जब बोली मायावती जी
तो सभापति से चुप करवा रहा ।
लोकतंत्र की हत्या करके
देखो आरएसएस नंगा नाच रहा ।

Share this:
Author
प्रदीप कुमार गौतम
शोधार्थी, बुंदेलखंड विश्वविद्यालय, झाँसी(उ0प्र0) साहित्य पशुता को दूर कर मनुष्य में मानवीय संवेदनाओ का संचय करता है एवं मानवीय संवेदनाओ के प्रकट होने से समाज का कल्याण संभव हो जाता है । इसलिए मैं केवल समाज के कल्याण के लिए... Read more
Recommended for you