.
Skip to content

आया सावन सपने बुनकर !!

Ashish Tiwari

Ashish Tiwari

गीत

July 8, 2016

कल कल झरने झूमे मधुवन ,
आया सावन सपने बुनकर !!

मोर, पपीहा, कोयल गाती ,
मीठी मीठी तान सुनाती !
सुनो सखी तुझसे कहती हूँ ,
पिया मिलन की याद सताती !!

हरा भरा उपवन में जाऊँ ,
बार बार देखूँ सहलाऊँ !

फूल बिखर जाते है खिलकर ,
कैसे मै उनको समझाऊँ !!

कास चले आते वो दौड़े ,
मेरे अंतरमन पढ़कर !

सीने से उनके लग जाती ,
राजा कहकर उन्हें बुलाती !
तरह तरह पकवान बनाकर ,
हाथों से मै उन्हें खिलाती !!

सारा जहां तुम्ही हो मेरे ,
कह देती उनसे मिलकर !
भाव विभोर हुआ हर्षित मन ,
गीत ग़ज़ल कविता लिखकर !!

Author
Ashish Tiwari
love is life
Recommended Posts
कल
ना आज मै कल है, ना कल मै कल है, ना जीत मै कल है, ना हार मै कल है, ना आप मै कल है,... Read more
सुखद सुहावन सावन आया
Ashish Tiwari गीत Jul 8, 2016
सुखद सुहावन सावन आया ! जीव जन्तु मेढक तन पाया !! मोर, पपीहा, कोयल बोले ! मस्त पवन चले होले होले !! हरा भरा उपवन... Read more
मुक्तक
तुम बार बार नजरों में आया न करो! तुम बार बार मुझको तड़पाया न करो! जिन्दा है अभी जख्म गमें-बेरुखी का, तुम बार बार दर्द... Read more
आया सावन
आया सावन महीना फिर झूमकर दिल सभी का मचलने लगा (=२) रिमझिम वर्षा हुयी संग सुहानी हवा ,खेत खलिहान में हरियाली छाने लगी , इसे... Read more