" ---------------------------------------- आम हो गयी गाली " !!

अपशब्दों का दौर चला है , बात बात पर गाली !
हैं विचार स्वाधीन यहां पर , कुछ बटोरते ताली !!

पद की गरिमा भूल गये हैं , करते हैं मनमानी !
हेराफेरी शब्दों की है , होते ट्वीट सवाली !!

फिल्मों में भी चलन बढ़ा है , खूब गालियां बरसे !
खामोशी से सब स्वीकारें , जबरन बनें मवाली !!

सामाजिकता प्रश्न करे है , शिक्षा कैसी हमारी !
आत्मसात हम कर लेते हैं ,आम हो गयी गाली !!

गलती करना आदत सी है , जाने कब सुधरेगें !
समझौता करना सीखा है हम ना हुए बवाली !!

संविधान की सौगातों का , बेजा लाभ लिया है !
दायित्वों का भार न जाने , बस हक की रखवाली !!

बृज व्यास

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 138

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share