.
Skip to content

“———————————————— आभा दिखे सुनहरी ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

August 30, 2017

घूँघट पट से झांक रही हो , नज़रें संग भेद भरी !
चेहरे पर रेखा चिन्ता की , छाई है अब गहरी !!

परदे के पीछे से चौकस , रहना कठिन बड़ा है !
आज चतुरता मौन लिये सी , बनी सजग अब प्रहरी !!

दामन उम्मीदों का थामे , आस लिये सहमी सी !
लक्ष्य साधने को आतुरतम , अँखियाँ जानो लहरी !!

सजधज मन भाती है ऐसी , नहीं आवरण चाहें !
रूप दमकता कुन्दन जैसा , आभा दिखे सुनहरी !!

बड़े ध्यान से कान लगाकर , आहट पा लेती हो !
भेद छुपाना लगे कठिन हैं , बड़ी सयानी ठहरी !!

कभी कनखियों से बतियाती , बोल धरे अधरों पर !
लदी नाज़ नखरों से ऐसी , मौन हुई स्वर लहरी !!

खूब लुभाना सीखा तुमने , सबके सब कायल हैं !
लुटने वाले अर्ज़ न करते , न कोउ चढ़े कचहरी !!!

बृज व्यास

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
अब भी है।
रदीफ- अब भी है। कलम मेरी,उनके अशआर अब भी हैं। दूर हैं, मगर सरोकार अब भी हैं। उनकी चाहत का खुमार अब भी है। वो... Read more
मुक्तक
तेरे बगैर जिन्दगी रूठी हुई सी है! मंजिल भी आगोश से छूटी हुई सी है! जागी हुई सी रहती हैं ख्वाहिशें लेकिन, अब राह उम्मीदों... Read more
ज़िन्दगी
है खूबसूरत ज़िन्दगी, सब जानते यह बात फिर क्यों गँवाते हैं इसे, प्रभु से मिली सौगात जो जान लेता भेद यह, पा जाए फिर वो... Read more
गौरैया
??गौरैया?? खो गयी है गली गाँव की सड़क शहर की हो गयी है चीं चीं का मधुगान नहीं अब पों पों पों पों हो गयी... Read more