.
Skip to content

आफत मे है जान

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

June 16, 2017

बिन पानी सब सून है, सत्य समझ इंसान !
किल्लत से अब नीर की,आफत में है जान !!

पानी का ढूँढा नहीं, हमने हल श्रीमान !
कहना जायज आपका, आफत में हैं जान !!

सोलह आने सत्य है, खतरे में हैं जान !
नदी सरोवर ताल पर ,दिया नहीं जो ध्यान !!

बिन पानी इंसान की , आफत में है जान !
हो चाहे वो राम फिर, या हो वो रहमान !!
रमेश शर्मा

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
जान सके तो जान
साप्ताहिक आयोजन 172 शनि-रवि ( 08-09 जुलाई ) समस्यापूर्ति चरण- "जान सके तो जान" ====================== करता है दादागिरी, .....बेच रहा सामान ! ऐसे पापी चीन... Read more
एक ऐसा था इंसान
वो दुनियाँ के गम ले रहा था बाँट रहा था खुशियोँ के पल वो हंस रहा था गम ले के पथ से हटा रहा था... Read more
नकल उन्मूलन
नकल से मंज़िल आसान नहीं होती। बिन पंख के जैसे उड़ान नहीं होती। ज्ञान से सफलता के खुलते हैं रास्ते, बिन ज्ञान इंसान की पहचान... Read more
मुझे वो दिन बहुत याद आते है
Sonu Jain कविता Oct 30, 2017
वो बचपन के दिन ।। वो हँसना खिलखिलाना ।। वो खेल खिलौनो से खेलना ।। वो रोना फिर मनना ।। मुझे वो दिन बहुत याद... Read more