गज़ल/गीतिका · Reading time: 1 minute

आप ही के लिए है जवानी मेरी

वज़्न ?
212 – 212- 212 – 212
?????????

आपके नाम है जिंदगानी मिरी
आप ही के लिए है जवानी मिरी
??????????
आपने ही सिखाया है हंसना मुझे
आपसे ही जुड़ी है कहानी मिरी
??????????
बाखुदा आपसे मिल के ऐसा लगा
दिल के दरिया ने पायी रवानी मिरी
???????????
हर सुबह अब तो रंगीन लगने लगी
शाम भी हो गई अब सुहानी मिरी
???????????
दिल जिग़र जान सब कुछ हुआ आपका
आँख भी आपकी है दीवानी मेरी

???????????
आपने छू लिया दिल मचलने लगा
आरजू़ हो गयी अब सयानी मिरी
???????????

सोच प्रीतम जवाँ है अगर इश्क तो,
हुस्न की कोठी क्यों हो पुरानी मिरी
??????????

प्रीतम राठौर

32 Views
Like
You may also like:
Loading...