Reading time: 1 minute

आप में हे क्या आप खुद् बेखबर हैं

आपकी सादगी ही आपका हुनर है
आपके ख्याल ही आपकी नज़र है
**************************
यूं न इतराईये कामयाबी पे जनाब
चार दिन की चाँदनी न कोई सहर है
**************************
चढ़के सर बोलती है कामयाबी यहाँ
है ये मीठा मगर ये तीखा जहर है
***************************
मिलिये इक बार ख़ुद से भी ज़नाब
आप में है क्या आप ख़ुद बेखबर है
***************************
करिये न ऐतबार यूं ही कपिल कभी
ऐतबार भी आज ख़ुद इक खबर है
***************************
कपिल कुमार
31/08/2016

1 Like · 2 Comments · 21 Views
Copy link to share
Kapil Kumar
154 Posts · 3.9k Views
Follow 2 Followers
From Belgium View full profile
You may also like: