.
Skip to content

** आपके दिल में ***

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

कविता

March 20, 2017

बड़ी मुश्किल से आपके

दिल में हमने घर बनाया

हर्फ़ बनकर चाहे दिल के

कागज़ पर उकेरें ना हम

खुजली बन तलहटीजुबां

दिल में घर करते रहेंगे

लफ़्ज बनकर आपकी

जुबां पे रकम करेंगे हम।।

?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि में... Read more
Recommended Posts
प्यार का बंधन
प्यार का बंधन अर्पण आज तुमको हैं जीवन भर की सब खुशियाँ पल भर भी न तुम हमसे जीवन में जुदा होना रहना तुम सदा... Read more
अनोखा प्यार का बंधन
अर्पण आज तुमको हैं जीवन भर की सब खुशियाँ पल भर भी न तुम हमसे जीवन में जुदा होना रहना तुम सदा मेरे दिल में... Read more
जो कहोगे-जो करोगे वापिस मिलेगा सौ-गुना
खुद के बनाए ज़ाल में यूँ उलझकर रह गए दर्द सारे दिल के मेरे अश्क बनकर बह गए हम खड़े रह भी गए घाट पर... Read more
अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ८ (अंतिम भाग)
अधूरी सी कहानी तेरी मेरी – भाग ८ गतांक से से ............अंतिम भाग अगले रविवार का सोहित ने बड़ी बेसब्री से इन्तजार किया | सुबह... Read more