.
Skip to content

आपके दिल की दास्तान है शायद

Kapil Kumar

Kapil Kumar

मुक्तक

October 10, 2016

कायनात भी मेहरबान है शायद
इश्क़ भी आज मेहमान है शायद
************************
सुन कर क्यों सुर्ख हो गये आप
आपके दिल की दास्तान है शायद
*************************
कपिल कुमार
10/10/2016

सुर्ख………….लाल

Author
Kapil Kumar
From Belgium
Recommended Posts
शायद
शायद किसी दिन मैं उस भीड़ भरे कमरे के उस पर देख पाऊंगा वो जानी पहचानी सी आंखें और बस फिर दिल नहीं धड़केगा और... Read more
*** शायद इंसानियत कहीं खो गयी है **
******************* बस्तियां दिल की वीरां हो गयी है प्यार की दुनियां कहीँ खो गयी है आ जाओ बसेरा कर लो इसमें अपना शायद इंसानियत फिर... Read more
**  अजब मुस्कुराहट **
इस अजब मुस्कुराहट पे तो ये दिल वारा है कौन जाने अब फिर भी ये दिल कुं -वारा है नाज़ - नख़रे भी तुम्हारे कितने... Read more
शायद मैं ना जागूँ एक दिन
शायद मैं ना जागूँ एक दिन..... ----------------------------------------------------------- शायद मैं ना जागूं एक दिन, साँसें जब ये रुक जाए । लहू की तीव्र गति रुक जाए... Read more