.
Skip to content

**** आपका अंदाज ****

भूरचन्द जयपाल

भूरचन्द जयपाल

शेर

August 14, 2017

खूबसूरत-ए-शोभा नहीं

शरीर की आभा जनाब ।

शोभा-ए-खूबसूरत

आपका अंदाज है ।।

?मधुप बैरागी

रंजोग़म भुलाने के वास्ते

दुनियां को भूलाना होगा

अगर दुनियां को हंसाना हो

तो ख़ुद को रुलाना होगा ।।

?मधुप बैरागी

Author
भूरचन्द जयपाल
मैं भूरचन्द जयपाल स्वैच्छिक सेवानिवृत - प्रधानाचार्य राजकीय उच्च माध्यमिक विद्यालय, कानासर जिला -बीकानेर (राजस्थान) अपने उपनाम - मधुप बैरागी के नाम से विभिन्न विधाओं में स्वरुचि अनुसार लेखन करता हूं, जैसे - गीत,कविता ,ग़ज़ल,मुक्तक ,भजन,आलेख,स्वच्छन्द या छंदमुक्त रचना आदि... Read more
Recommended Posts
*** गणित ही बदल डाला ***
सूरज भी तेरे हुस्न की लाली से निकलता होगा फिर तो चाँद भी तुम्ही से रोशनी लेता होगा ।। तेरे हुस्न ने दस्तूर-ए-संसार ही नहीं... Read more
** अदालत-ए-इश्क **
मुवक्किल थे हम उनके अदालत-ए-इश्क में पैरवी कुछ इस तरह की हम जीती हुई बाजी हारे ।। ?मधुप बैरागी प्राणों का नहीं मोह मुझे न... Read more
***  क्यूं किससे ***
मायूस हो हम फुर्कत-ए-इश्क में रोए तुम सोचोगे खदीन ख़्वाब लेकर हम रोए आरजू-ए-ख्वाहिश इब्तिदा-इश्क करने हम तो आफ़ताब-ए-ख़ुदा पाने को रोए ?मधुप बैरागी राज-ए-मुहब्बत... Read more
**  मुक्तक **
* गुल-ए-गुलशन से कोई फूल तो चुनना होगा । अरे भ्रमर फिर पछतायेगा जब ग़म-ए-उल्फ़त से चूर तुझे होना होगा ।। भीड़ में चलते हुए... Read more