कविता · Reading time: 1 minute

आन्दोलनजीवी या जुमलाजीवी

लोकतंत्र मिटाने की कोशिश करने वालो से,
अम्बानी अडाणी के यारों से, सेठों के चौकीदारों से, लोहे की बैरीकेटिंग से और नुकीले तारों से, ऑसू गैस के गोलों से और सरकारी हथियारों से,
सामना करनेवाले आन्दोलनजीवी कहलाए।।

नफरत पर टीके नकली तानाशाहों से ,
और इन ज़ालिम सरकारों से,
कोई ये जाकर के कह दे ,
संसद के गलियारों से..
इन जुमले वालों से,
हम किसान हैं ।
डरते नहीं उधोगपतियो के दलालो से,
मिटा नही सकता हमे ।
वो अंग्रेज़ो जैसी चालो से,
झूठ के जालो से
क्योंकि वो जुमलेजीवी है
जीवो जुमले जीव ठग है?

#किसानपुत्री_शोभा_यादव

4 Likes · 2 Comments · 58 Views
Like
147 Posts · 6.5k Views
You may also like:
Loading...