23.7k Members 50k Posts

आनंद

आनंद अंतर्मुखी होता है जिसमें असीम सुख छिपा होता है।मन चंचल है जो पूर्ण वेग से इधर ऊधर भागता है।कहीं तृप्ति नहीं!ना पूर्णता है ना प्रकाश पर फिर भी मन स्निग्ध है अलंकृत है।मकड़ी की मुद्रा में विशेष आकर्षण होता है जिसमें फंसने वाला जीव विवश होता है और दिग्भ्रमित भी!
मनोज शर्मा

1 Like · 1 Comment · 5 Views
मनोज शर्मा
मनोज शर्मा
दिल्ली
50 Posts · 246 Views
हिन्दी लेखक एवम् कवि असिस्टैंट प्रोफेसर गैस्ट अदिति महाविद्यालय दिल्ली विश्वविद्यालय एम ए हिन्दी उर्दू...
You may also like: