आधुनिकता की मार

** आधुनिकता की मार **
// दिनेश एल० “जैहिंद”

फैशन का बोलबाला, अंग्रेजी का अब हल्ला,
लगा हिंदी को ताला, __भाषा बद हाल है ।
अभद्रता में गच है, __यही आज का सच है,
नंगाई खचाखच है, ___ओढ़े खल-खाल है ।।

दौर ये लाजवाब है, नहीं कोई जवाब है,
सबके बड़े ख्वाब है, नहीं कोई मलाल है ।
आधुनिकता का शोर, अब चहुँ ओर होड़
बने रिवाजों को तोड़, हाल तो बेहाल है ।।

हैं फैशन के पुजारी, _हो नगद या उधारी,
आई इंडिया की बारी, अंग्रेजों की चाल है ।
लोक लाज दूर गए, __नौ युग में डूब गए,
सभ्यता तो भूल गए, __संस्कृति हलाल है ।।

====≈≈≈≈≈≈====
दिनेश एल० “जैहिंद”
18. 11. 2017

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share