.
Skip to content

आधार

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

कविता

April 2, 2017

“आधार ”
—————–

झीने पट में
झिलमिल करती !
एक अलबेली नार |
बैठ तरंगिनी
के तट पर !
करती स्वेच्छाचार |
निरख रही है ,
नदी के जल को !
समझ रही है सार |
जल के बिन
सब सूना-सूना !
जल ही है आधार ||
—————————–
डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
जल बिन सूना है संसार
जल जीवन का है आधार जल जग का करता उद्धार । जल सृष्टि का एक उपहार जल से भू पर बनी बहार । जल औषध... Read more
नीड़ का आधार
"नीड़ का आधार" ! ----------------------- जंग लगी हुई वो लोहे की लालटेन ! जो कभी रोशन करती थी *"दीप"*की तरह...... चिराग बनकर घर को !!... Read more
*पेड़*
जीवन का श्रँगार पेड़ हैं संकट की पतवार पेड़ हैं बिन इनके है सब कुछ सूना हर सुख का आधार पेड़ हैं *धर्मेन्द्र अरोड़ा*
जिंदगी
ये मासूमियत यूं ही ढल रही हैं, जिंदगी में तन्हाई यूं खल रही हैं, हों अगर कोई हमें चाहने वाला, तो आ जाओं रूह जल... Read more