Apr 16, 2021 · कविता
Reading time: 3 minutes

*”आदिशक्ति माँ कूष्मांडा”*

🌷*”आदिशक्ति माँ कूष्मांडा”*🌷

माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार ….
अब तो सुन लो हमारी करुण पुकार।
जया पिंगला ज्वालामुखी निराली ,
शाकम्भरी मां तू है भोली भाली।
मस्तक पे चन्द्र की रेखाएं शोभित
शंख चक्र त्रिशूल हाथ में ,
सिंह के कंधों पे सवारी।
*माँ कुष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*…
अब तो सुन लो हमारी करुण पुकार।
संपूर्ण विश्व को व्याप्त उत्पत्ति कर
देवों महर्षियों में परम पूज्यनीय दायिनी।
अतुल्यनीय शौर्य शक्ति दायिनी ,
रंचण्डिका समस्त विश्व पालिनी।
*माँ कुष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*….
अब तो सुन लो हमारी करुण पुकार।
चराचर जगत में व्यापित अंश
रज ,तम ,सत्व गुणों में विद्यमान परा प्रकृति दायिनी।
पितरों को भी तृप्ति दे स्वाहा स्वधा मोक्षदायिनी।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*….
अब तो सुन लो हमारी करुण पुकार।
शब्दस्वरूपा निर्मल वेद पुराणों का आधार ,
मार्कण्डेय ऋषि को अमर बना दुर्गा सप्तशती ज्ञान कराती।
मुखमण्डल मृदु सौम्य हास्य निर्मल ,
पूर्ण चन्द्रबिम्ब स्वर्ण कांति स्वरुपिणी।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*….
अब तो सुन लो हमारी करुण पुकार।
सुन ले हमारी करुण पुकार।
अनुपम लावण्य रूप देख महिषासुर ,
कुपित हो आघात किया।
क्रोध की मुद्रा में भौंहे चढ़ा जब माँ ने
क्रोधाग्नि में विशाल सेना का संहार किया।
कुपित होने पर वंश नाश कर देती ,
प्रसन्न हो संपूर्ण विश्व का कल्याण कर देती।
भक्तों पे कृपा दृष्टि बरसाती ,धन धान्य से पूर्ण ख्याति प्राप्त कराती।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*…
अब तो सुन लो हमारी करुण पुकार।
स्मरण मात्र से समस्त जीवों का भय निवारण,
स्वतंत्र बुद्धि चिंतन दुख दारिद्र दूर करे माँ भयहारिणी।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरम्पार*….
अब तो सुन लो हमारी करुण पुकार।
शत्रुओं को शस्त्र से आघात करती
दृष्टिपात से ही संपूर्ण दैत्यों को भस्म कर डालती।
शस्त्र के प्रहार से पवित्र हो *स्वर्गपुरी* मोक्ष दिलाती।
खड्गधारी तेज दिव्य दीप्ती मान
त्रिशूल के अग्र भाग से घनीभूत कांति असुरों को विदीर्ण कर डालती।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*…
अब तो सुन लो हमारी करुण पुकार।
मनोरम किरणों से युक्त मुख चन्द्र दर्शन ,
आनंद दे जाती।
शील दुरात्माओं दुर्व्यवहार निवारिणी,
माँ का चिंतन मनन अतुल्यनीय अद्भुत *शांत रस* परम शांति सुख दे जाती।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*….
अब तो सुन लो हमारी करुण पुकार।
हॄदय में दयालुता युद्ध में निर्दयता भाव ,
दोनो भावों में त्रिनेत्री त्रिलोक्य त्रिलोकी कहलाती।
शत्रुओं का वध कर दैत्यों का संहार कर अमर पद दिलाती।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*….
अब तो सुन लो करुण पुकार।
संकट कष्ट हर भय को दूर करने वाली भयहारिणी।
खड्ग खप्पर चक्र धारी धनुष बाण शूल से
रक्षा करने वाली ।
दसों दिशाओं में त्रिशूल घुमाकर परित्राण करने वाली।
परम सुंदरी अत्यंत भीषण युद्ध में त्रिभुवन विचरण करने वाली।
जगन्माता स्तवन नंदनवन कानन दिव्य
पुष्पित सुंगधि पुष्टि करने वाली।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*….
अब तो सुन लो हमारी पुकार।
हाथ जोड़ *शशि* खड़ी हुई ,
आराधना करती दर्शन दे संकटों से मुक्ति देने वाली।
विश्व के कल्याणार्थ देवों के शरीर से प्रागट्य प्रादुर्भूत हुई ,
हितकारी देवी शुम्भ निशुम्भ वध कर गौरी स्वरूप अवतारिणी।
आदिशक्ति माँ कूष्मांडा आलौकिक दिव्य शक्ति धारिणी।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*….
अब तो सुन लो हमारी पुकार।
सूर्य सा स्वर्णिम चमक दसों दिशाओं में प्रकाश फैलाती।
तम अंधकार मिटा दैवीय आपदा मिटाने *शांत रस* भक्तिमय भाव अंतर्मन जगाती।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*…
अब तो सुन लो हमारी पुकार।
आ जाओ विश्व पालन संकट से मुक्ति कर दो अबकी बार।
सुख संपत्ति आरोग्य निरोगी काया देकर ,
नैनो से दर्शन दे अमृत धारा बरसाओ।
*माँ कूष्मांडा तेरी महिमा अपरंपार*….
अब तो सुन लो हमारी पुकार।
*या देवी सर्वभूतेषु माँ कूष्मांडा रूपेण संस्थिता*
*नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः*
*शशिकला व्यास* ✍
जय माँ कूष्मांडा 🙏🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹🌷🌹

2 Likes · 3 Comments · 36 Views
Shashi kala vyas
Shashi kala vyas
301 Posts · 12.5k Views
Follow 19 Followers
एक गृहिणी हूँ मुझे लिखने में बेहद रूचि रखती हूं हमेशा कुछ न कुछ लिखना... View full profile
You may also like: