.
Skip to content

आदाब अर्ज़

ishwar jain

ishwar jain

शेर

October 24, 2017

हम भी कहाँ मरे जा रहे
जीने के लिए ।
तेरा साथ है तो बस
जिए जा रहे हैं हम ।।??

Author
ishwar jain
Recommended Posts
तन्हाई
मेले लगे लग के चले गए लोग खेले खेल के चले गए वहीं रहे तो बस हम और हमारी तन्हाई।
शेर
फाँसले तो बहुत रहे हमारे दरमियाँ फिर भी हम एक ही सिक्के के दो पहलू बनकर साथ जीते रहें -पंकज त्रिवेदी
फूल खिलते रहेंगे यह सोचकर खुश था मगर दुख इस बात का, कि रौंदी जा रही मासूम कलियाँ
फासले
उनसे नहीं थीं दूरियां मुझको गंवारा कभी, आए नहीं वो.. अर' यहां बढ़ते रहे फासले।