.
Skip to content

आदमी

डा. सूर्यनारायण पाण्डेय

डा. सूर्यनारायण पाण्डेय

कविता

February 18, 2017

मंजिलों की चाह में
कफ़िलों के साथ
हर पता पर रहगुजर से
पूछता है आदमी.
……
आदमी जब आदमी को
लुटने लगा
आदमी के नाम पर
अब सोचता है आदमी.
……
युद्ध अंत पर बालबर्ष
बेरोजगारी में युवावर्ष
अशांति में शांतिवर्ष
मनाता है आदमी.
…..
करने के लिए कंप्यूटर
कराने के लिए रोबोट
मारने के लिए परमाणु बम
बना लेता है आदमी.
…..
आतंकवाद को
जातिवाद का नारा देकर
आदमी को ही अब
भड़काता है आदमी.
…..
दहेज की वृद्धि पर
बहुओं की मृत्यु पर
ट्यूब चाईल्ड
बनाने लगा है आदमी .
…..
वादे एतबार
जबसे मुकरने लगे
छाछ भी पीने से पहले
अब फूंकता है आदमी.
…..
झोपड़ी वाले को धनवान
मकबरे को इमारत
मंदिर को कब्रिस्तान
समझता है आदमी.
…..
दूध में पानी
पानी में दवाई
चावल में कंकड़
मिलाता है आदमी.
…..
मंगरू को विद्यापति
विद्यापति को लाठिपति
गाँधी को दस्यु
बना देता है आदमी.
……
राम को नर्क
रावण को स्वर्ग
कालिदास को संसद
पहुंचा देता है आदमी.
…..
घर घर में जबसे
गृहयुद्ध होने लगा
घर में जाने से पहले
अब रोता है आदमी.
…..
आधुनिकता में जबसे
पलने लगा है आदमी
आदमी को देखकर
अब खांसता है आदमी.
…..
(इस कविता को मैंने 4 अप्रैल 1986 में लिखी थी. अविकल प्रस्तुत)

Author
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
देश की विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में 1000 से अधिक लेख, कहानियां, व्यंग्य, कविताएं आदि प्रकाशित। 'कर्फ्यू में शहर' काव्य संग्रह मित्र प्रकाशन, कोलकाता के सहयोग से प्रकाशित। सामान्य ज्ञान दिग्दर्शन, दिल्ली : सम्पूर्ण अध्ययन, वेस्ट बंगाल : एट ए ग्लांस जैसी... Read more
Recommended Posts
आदमी (1)
श्याम-पट पर अक्षरों की तरह चमकदार नहीं है आदमी । आदमी अब अक्षरों पर श्याम-पट की तरह काला और उपयोग के बाद दीवाल पर किसी... Read more
आदमी की औक़ात
सिरे से खारिज़ कर बैठता हूँ, जब सुनता हूँ की चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ हैं आदमी, सजीव हो उठती हैं, नहीं आखों से हटती... Read more
आदमी से हटकर
यदि हम , कुछ पाना चाहते हैं तो वह यह कि- हम पाना नहीं चाहते अपने ही भीतर खोया हुआ आदमी. । यदि हम कुछ... Read more
आदमी...।
आदमी....।। तील तील कर तो यूँ ही मर रहा था "आदमी"..। जो थोड़ी जान बचीं थी उसके ख्वाहिशों ने लिया..।। रिश्तों की अहमियत कहाँ समझ... Read more