.
Skip to content

आदमी (3)

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

कविता

November 13, 2016

राशन ख़रीदने
किसी कठारख़ाने
की दूकान पर,
जो लगी हो
लम्बी-सी कतार ।
किस चीज की है
वह कतार , यह
कुछ-कुछ समझ में
आने बाली बात है ।
प्रमाणपत्र हाथ में लिए
किसी सरकारी या
ग़ैर-सरकारी दफ्त़र
के सामनें ,जो लगी हो
उदासीन-सी कतार ।
वह कतार क्या है ?
यह भी तुम्हारी या
हमारी समझ में
आने बाली बात है ।
लेकिन-यहाँ-वहाँ,
और जहाँ – तहाँ
कचरा बटोरने के लिए
जो लगीं हों
लम्बी-सी कतारें
समझ लो वे कतारें हैं
आज के आदमी कीं ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
कतार
लोग कतार में है और वे समझते हैं कि वे क्यों कतार में है । कुछ लोग समझते हैं पर नहीं समझते । लोग उन्हें... Read more
पहला एहसास.
छोटी छोटी आँखे उजाले का आभास सी कराने लगी थी, दिन और रात चाँद और तारों की छटा आकाश में छाने लगी थी। रिमझिम करती... Read more
अक्सर लोग छोटी सी बात पे रूठ जाते है......
अक्सर लोग छोटी सी बात पे रूठ जाते है खुद पत्ता जैसे शाख से टूट जाते है पढने-लिखने से ज़माने की समझ मिलती है लेकिन... Read more
तिल तिल टूट रही हूं
तिल तिल टूट रही हूँ मैं खुद से छूट रही हूँ मैं सब कुछ बिखरता जा रहा कुछ भी समझ न आ रहा। जाने कहाँ... Read more