आदमी

विषय … *बल*

स्वयं को सँवारता आदमी ।
अन्य को बिसारता आदमी ।
थोथले दम्भ के बल पर ,
स्वयं को उभारता आदमी ।

आदमी को यूँ मारता आदमी ।
आदमी से यूँ कट रहा आदमी ।
आज आदमियत की राह से ,
आदमी से यूँ भटक रहा आदमी ।
…. विवेक दुबे”निश्चल”@..

Like Comment 0
Views 5

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing