Reading time: 1 minute

आदमी

पिसते’ पिसते आज बौना हो गया है आदमी ।
मातमी ख़त का सा’ कौना हो गया है आदमी ।।1

जिन्दगी पर इन्द्रधनुषी तन गई है वासना ।
देखिये कितना घिनौना हो गया है आदमी ।।2

रेजगारी से भुने व्यवहार हैं इंसान के ।
घटघटा कर नोट पौना हो गया है आदमी ।।3

रेशमी कालीन तो शोकेस में सज कर रखे ।
चीथड़ा कोई बिछौना हो गया है आदमी ।।4

ये पढ़ा भूगोल में था सारी’ दुनियाँ गोल है ।
पर मुझे लगता तिकौना हो गया है आदमी ।।5

हाथ माथे पर टिकाये है कहीं कौने पड़ा ।
एक टूटा सा खिलौना हो गया है आदमी ।।6

-महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
***

24 Views
Copy link to share
mahesh jain jyoti
82 Posts · 4k Views
Follow 3 Followers
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ... View full profile
You may also like: