.
Skip to content

आदमी

mahesh jain jyoti

mahesh jain jyoti

गज़ल/गीतिका

July 15, 2017

पिसते’ पिसते आज बौना हो गया है आदमी ।
मातमी ख़त का सा’ कौना हो गया है आदमी ।।1

जिन्दगी पर इन्द्रधनुषी तन गई है वासना ।
देखिये कितना घिनौना हो गया है आदमी ।।2

रेजगारी से भुने व्यवहार हैं इंसान के ।
घटघटा कर नोट पौना हो गया है आदमी ।।3

रेशमी कालीन तो शोकेस में सज कर रखे ।
चीथड़ा कोई बिछौना हो गया है आदमी ।।4

ये पढ़ा भूगोल में था सारी’ दुनियाँ गोल है ।
पर मुझे लगता तिकौना हो गया है आदमी ।।5

हाथ माथे पर टिकाये है कहीं कौने पड़ा ।
एक टूटा सा खिलौना हो गया है आदमी ।।6

-महेश जैन ‘ज्योति’,
मथुरा ।
***

Author
mahesh jain jyoti
"जीवन जैसे ज्योति जले " के भाव को मन में बसाये एक बंजारा सा हूँ जो सत्य की खोज में चला जा रहा है अपने लक्ष्य की ओर , गीत गाते हुए, कविता कहते और छंद की उपासना करते हुए... Read more
Recommended Posts
आदमी तो आदमी है सिर्फ आदमी
हर वक्त हर रोज परेशां है आदमी कहीँ उनसे कही खुद से परेशां है आदमी।। नियति का सर्वश्रेष्ट है उपहार आदमी पर औरो से कही... Read more
आदमी
आदमी आदमी से परेशान खो दिया इंसानों ने सोचने की ताकत जुल्मों की जंगलों में भटक रहे हैं आदमी देखो कितना लाचार और बेबस हैं... Read more
आदमी (1)
श्याम-पट पर अक्षरों की तरह चमकदार नहीं है आदमी । आदमी अब अक्षरों पर श्याम-पट की तरह काला और उपयोग के बाद दीवाल पर किसी... Read more
आदमी की औक़ात
सिरे से खारिज़ कर बैठता हूँ, जब सुनता हूँ की चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ हैं आदमी, सजीव हो उठती हैं, नहीं आखों से हटती... Read more