आदमी हो तो आदमी मानूँ

2122 + 1212 + 22

मैं तो हिन्दू न मुसलमां जानूँ
आदमी हो तो आदमी मानूँ

बैर जग में किसी से रखना क्यों
कोई भी रार ना जी में ठानूँ

वो है ज्ञानी जो समझे उल्फ़त को
प्रीत के ढाई लफ़्ज़ मैं मानूँ

लड़ते भी हैं वो प्रेम भी करते
राम रहिमान दोउ को जानूँ

अपने हैं सब, न कोई बेगाना
तुम खुदा कहते, राम मैं मानूँ

3 Likes · 3 Comments · 26 Views
Copy link to share
#25 Trending Author
एक अदना-सा अदबी ख़िदमतगार Books: इक्यावन रोमांटिक ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह); इक्यावन उत्कृष्ट ग़ज़लें (ग़ज़ल संग्रह);... View full profile
You may also like: