.
Skip to content

आदमी से हटकर

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

कविता

November 13, 2016

यदि हम ,
कुछ पाना चाहते हैं
तो वह यह कि-
हम पाना
नहीं चाहते
अपने ही भीतर
खोया हुआ
आदमी. ।
यदि हम
कुछ करना
चाहते हैं,
तो यह कि-
हम कुछ भी
करना नहीं चाहते,
आदमी होते हुए।
यदि हम
कुछ सुनना
चाहते हैं,तो
वह यह कि-
हम सुनना नहीं चाहते
आदमी से
आदमी की बात ।
यदि हम
कुछ कहना
चाहते हैं तो वह
यह कि-
हम कुछ भी
कहना नहीं चाहते
आदमी की तरह
हाँ , अब यह बात
अलह़दा है कि-
आदमी से हटकर
हम सभी-कुछ
करना चाहतें हैं ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
आदमी
बीत गए वो लम्हे अतीत के पन्नो पर कुछ छाप छोड़ गए कुछ मीठी यादे कुछ रिश्ते तोड़ गए यकीं होना किसी के होने का... Read more
आदमी की औक़ात
सिरे से खारिज़ कर बैठता हूँ, जब सुनता हूँ की चौरासी लाख योनियों में सर्वश्रेष्ठ हैं आदमी, सजीव हो उठती हैं, नहीं आखों से हटती... Read more
आदमी (2)
भूगोल पर धुआँ फूँकता ले जाना चाहता है विज्ञान को , एक सख्स़़ आकाश तक। जिसे हम आदमी के नाम से जानते हैं । और... Read more
उस लम्हा
उस लम्हा काश हम थोड़ा ठहर गए होते, जब तेरे दिल में उतर जाना चाहते थे। ** हमने इतने इत्मीनान से उन्हें खो दिया, जितने... Read more