Reading time: 1 minute

आदमी तो आदमी है सिर्फ आदमी

हर वक्त हर रोज परेशां है आदमी
कहीँ उनसे कही खुद से परेशां है आदमी।।

नियति का सर्वश्रेष्ट है उपहार आदमी
पर औरो से कही ज्यादा परेशां है आदमी ।।

किसने किया गुनाह सजा किसको है मिली
खुद अपने गुनाह से है गुनहगार आदमी ।।

आए थे सज सवंर के लिए हसरतों का संग
एक रोटी की चाह ने ही तो मारा है आदमी ।।

क्यों सच से दूर ख्वाब सजाता है आदमी
पर मरने के बाद भी तो भटकता है आदमी।।

गर मान लेता जान लेता सच को आदमी
कि आदमी तो आदमी है सिर्फ आदमी।।

172 Views
Copy link to share
sunil soni
15 Posts · 2.2k Views
जिला नरसिहपुर मध्यप्रदेश के चीचली कस्बे के निवासी नजदीकी ग्राम chhenaakachhaar में शासकीय स्कूल में... View full profile
You may also like: