आदमी की जिंदगी

आदमी की जिंदगी, तोहफा हंसीन है
खुशी और गमों की, पुख्ता जमीन है
कभी खट्टी कभी मीठी, बे रंग रंगीन है
वख्शीस है खुदा की, पक्का यकीन है
सांसों की है डोरी,धागा महीन है
ये जिंदगी भी या रब, तेरे अधीन है
कभी फूल कभी शूल , दोनों कुबूल है
हर हाल में मैं खुश हूं, जो दे रसूल है।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी

2 Likes · 6 Comments · 32 Views
#15 Trending Author
मेरा परिचय ग्राम नटेरन, जिला विदिशा, अंचल मध्य प्रदेश भारतवर्ष का रहने वाला, मेरा नाम... View full profile
You may also like: