May 13, 2021 · कविता
Reading time: 1 minute

!! आदत न जाएगी !!

!! आदत न जाएगी !!
****************

कितना भी सिंह वाले रंग में रंगे शृगाल,
शृगाल में सिंह वाली ताक़त न आएगी।
व्यंजन पे व्यंजन जो स्वान को खिलाओ तो भी,
जूठन को चाटने की आदत न जाएगी।

दीपक “दीप” श्रीवास्तव
पालघर, महाराष्ट्र

5 Likes · 4 Comments · 79 Views
Copy link to share
दीपक श्रीवास्तव
38 Posts · 2.2k Views
Follow 6 Followers
कवि, लेखक एवं नाटककार View full profile
You may also like: