Skip to content

आतंकवाद

लक्ष्मी सिंह

लक्ष्मी सिंह

कविता

July 12, 2017

?????

आतंकवाद सभ्य समाज और मानवता के लिए कलंक,
सम्पूर्ण मानव जाति के लिए बहुत बड़ा खतरा है आतंक।

गोलियों, बंदूकों, बारूदों से नित सजते हैं यहाँ बाजार,
विश्व भर में चल रहा लाशों व खूनी मौत का ये कारोबार।

डराते हैं ये एक हिंसात्मक कुकृत्य खौफनाक तरीके से।
हर रोज कितने निर्दोष मर रहे हैं इनके विकृत सोच से।

आतंकवाद का कोई भी ईमान और धर्म नहीं होता है,
इस दुष्ट दुराचारी के आँखों में तनिक शर्म नहीं होता है।

आतंकवाद के पास नहीं कोई नियम ना ही कोई कानून।
करे घिनौना कुकृत्य सदा माथे पर चढ़ा एक खूनी जुनून।

आतंकवाद है चलता फिरता जीवधारी एक मानव रोबोट,
दूर बैठा चला रहा एक आका जिसके हाथ में इसके रिमोट।

ये आतंकी ज्यादातर निहत्थे मासूमों पर करते हैं हमला,
आतंकवाद के नित घिनौने कुकृत्य से पूरा विश्व है दहला।

सम्पूर्ण विश्व में तीव्र गति से फैलता जा रहा है ये जहर।
बिगड़ रहे हालात बढ़ रहा है नित आतंकवाद का कहर।

आतंकवाद के जलती आग में आज पूरा विश्व जल रहा है,
पाकिस्तान की गोद में खतरनाक आतंकवादी पल रहा है।

नित आतंकवाद का ये झंडा पूरे विश्व में हो रहा है बुलंद,
ऐसे नोच कर खा रहा मासूम लोगों को जैसे हो मूल-कंद।

लेना होगा संकल्प इस आतंकवाद के समूल विनाश का।
गाँधी वादी क्रांति से जलाये हर तरफ एक दीप आशा का।
????—लक्ष्मी सिंह ?☺

Author
लक्ष्मी सिंह
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is a available on major sites like Flipkart, Amazon,24by7 publishing site. Please visit my blog lakshmisingh.blogspot.com( Darpan) This is my collection of poems and stories. Thank... Read more
Recommended Posts
आतंकवाद
आतंकवाद, उफ़! धागों की तरह उलझ गए हैं लोग हिंसा के अभिनन्दन में नहीं...नहीं...नहीं शायद इसलिए कि महान समीप्यपूर्ण एकता को छोड़ मृत्यु को गले... Read more
आतंकवाद
भारतीय परम्परा के अनुसार देश का सैनिक हमेशा ही देश का सर्वाधिक सम्मानित नागरिक रहा है आजादी से पहले और आजादी के बाद भी देश... Read more
आतंकवाद
एक वाद ऐसा भी दुनिया में जो मानवता संहारी है , इंसां की साँसों से ज्यादा दानवता जिसको प्यारी है । वो आतंकवाद ही है... Read more
जागो मेरे हिंदुस्तान ! बहुत हो चुका है अपमान( गीत)पोस्ट २८
Jitendra Anand गीत Oct 16, 2016
जागो मेरे हिंदुस्तान ! बहुत हो चुका है अपमान ****************************गीत********** तुम सोये तो भाग्य सो गया ,बहुत हो चुका है अपमान। यह सोने क् समय... Read more