Skip to content

आतंकवाद पर दोहे

साहेबलाल 'सरल'

साहेबलाल 'सरल'

दोहे

January 27, 2017

आतंकी को मारकर, देना उन्हें जलाय।
तब ही मरने से डरे, सबसे सही उपाय।1।

सत्य सत्य पहचानना, आतंकी की जात।
कोई इनकी जात नहि, नहि कोई औकात।2।

दानवता मानव कहे, उनको दानव जान।
मानवता आतंक को, लेते जो है मान।3।

जहर लिये मन में फिरे, पाने को सौगात।
दुनिया सारी जानती, क्या तेरी औकात?4?

मौत वरण कर सुखद  ही, मरो नहीं बेमौत।
जीवन जो अनमोल है, काहे नाहक खोत।5।

माना इस संसार में, भांति भांति के भेद।
मानवता की थाल में, जो करते हैं छेद।6।

फिर भी अपनी बात को, करो पटल पर पुष्ट।
बिना पटल पर पुष्ट के, हो मत जाना तुष्ट।7।

पढ़ो लिखो भाई मेरे, तब जानो अधिकार।
कोई बहका नहि सके, तब जीतो संसार।8।

परदे के पीछे छिपा, शातिर बैठा एक।
उसकी मन्सा जान लो, तब बन पाओ नेक।9।

Author
साहेबलाल 'सरल'
संक्षेप परिचय *अभिव्यक्ति भावों की" कविता संग्रह का प्रकाशन सन 2011 *'रानी अवंती बाई की वीरगाथा' की आडियो का विभिन्न मंचो में प्रयोग। *'शौचालय बनवा लो' गीत की ऑडियो रिकार्डिंग बेहद चर्चित। *अनेको रचनाएं देश की नामचीन पत्र पत्रिकाओं में... Read more
Recommended Posts
"औक़ात" ------------------------- मुझे है पता, मेरी औक़ात, तू बता ? क्या है तेरी जात* कितनी जायदाद ? है मेरे पास ! दो गज ज़मीन, कपड़ा... Read more
सत्य
" सत्य " ----------- माना कि..... निराकार है ! अनिर्वचनीय है ! अदृश्य है "सत्य" | लेकिन सत्य ही सच है........... क्यों कि ? सत्य... Read more
फिर सात दोहे ।
बुधवार स्वतन्त्र दोहे --- ----------------फिर सात दोहे--------------- फूक फूक चलना सदा,, भूल एक पर्याप्त ।। राम मॄत्यु का कटघरा, चौतरफा है व्याप्त ।। विनय नम्रता... Read more
लें अचूक हथियार.....: दोहे
आतंकी कश्मीर का, बना फिर रहा बाप. हूर बहत्तर बाँटता, असह्य 'पाक' का ताप.. वार करे छिप कर सदा, आतंकी यह देश. शातिर पाकिस्तान को,... Read more