Skip to content

आज

विवेक दुबे

विवेक दुबे

मुक्तक

April 9, 2017

आज सूरज चाँद सा खिला है ।
आज एक अहसास नया मिला है ।
है हवाओं में खनक घुंघरुओं की ,
मदहोशी का एक नशा सा घुला है ।
…… विवेक ….

Share this:
Author
विवेक दुबे
मैं विवेक दुबे निवासी-रायसेन (म.प्र.) पेशा - दवा व्यवसाय निर्दलीय प्रकाशन द्वारा बर्ष 2012 में "युवा सृजन धर्मिता अलंकरण" से सम्मान का गौरब पाया कवि पिता श्री बद्री प्रसाद दुबे "नेहदूत" से प्रेरणा पा कर कलम थामी काम के संग... Read more
Recommended for you