Sep 18, 2016 · कविता
Reading time: 1 minute

आज फ़िर तेरी याद ने

आज फ़िर तेरी याद ने
वो खोया हुआ पल लौटा दिया
आज फ़िर तेरी याद ने
वो उलझा हुआ कल सुलझा दिया

याद है वो लम्हा मुझे
जब तुझसे पहली बार मिला
लफ्ज़ कहीं पर घूम से थे
पर चल पड़ा था बातों का सिलसिला
उन बातों ने आज फिर दिल बहला दिया
आज फ़िर तेरी याद ने
वो खोया हुआ पल लौटा दिया

बारिशों में चाय की चुस्कियां
सर्दी के कोहरे में घुली मस्तियाँ
हर मौसम को और खुशनुमा बनाती
तेरे गुलाबी गालों की सुर्खियां
तेरी आँखों की गहराई में फिर डूबा दिया
आज फिर तेरी याद ने
वो खोया हुआ पल लौटा दिया

आज तू साथ नहीं, मैं भी ग़मज़दा नहीं
किस्मत में ना लिखा था साथ हमारा
इस बात से भी मैं ख़फ़ा नहीं
तेरी कमी ने फिर भी
मेरी आँखों को फ़िर भीगा दिया
आज फ़िर तेरी याद ने
वो खोया हुआ पल लौटा दिया
आज फ़िर तेरी याद ने
वो उलझा हुआ कल सुलझा दिया

–प्रतीक

157 Views
मैं उदयपुर, राजस्थान से एक नवोदित लेखक हूँ। मुझे हिंदी और अंग्रेजी में कविताएं लिखना... View full profile
You may also like: