Feb 14, 2017 · गीत
Reading time: 1 minute

आज शंकर जी मेरे घर आए हैं।

???????
?
?आज शंकर जी मेरे घर आए हैं ।
संग पार्वती, गोद में गणपति लाए हैं ।।
?
त्रिनयन, मस्तक पर चंदा, हाथ त्रिशूल,
शिर गंग, डम – डम डमरू बजाए है ।।
?
नंदी पर सवार, पहने बाघम्बर छाल,
गले सर्प, तन पे विभूति लिपटाए हैं ।।
?
मुख निरखूँ, आरती उतारूँ, व्याकुल मन,
कुछ समझ न पाऊ, नैनन नीर बहाए हैं ।
?
चौका लगाऊ, भाँग पिसू, चंदन घिसू,
अक्षत चढ़ाऊ, आक – धतुर इन्हें भाए हैं।
?
औढ़रदानी, जग के स्वामी, भाग्य मेरी,
जो हँसी – हँसी भोग को खाए हैं ।
?
जग का पालनहारा, दुनिया का रखवाला,
इस कुटिया में आकर, निर्धन के भाग्य जगाए हैं ।
?
?आज शंकर जी मेरे घर आए हैं ।
संग पार्वती, गोद में गणपति लाए हैं ।।
????????
?लक्ष्मी सिंह ?

196 Views
Copy link to share
लक्ष्मी सिंह
828 Posts · 277.5k Views
Follow 54 Followers
MA B Ed (sanskrit) My published book is 'ehsason ka samundar' from 24by7 and is... View full profile
You may also like: