.
Skip to content

आज भी याद है वो रात

डॉ मधु त्रिवेदी

डॉ मधु त्रिवेदी

लघु कथा

October 27, 2016

रवि को फिर वहीं रात याद आ गयी , मूसलाधार बरसात हो रही थी और साँझ ने यह कहते हुए “आओ , मेरे पास । बहुत भीग गये हो कुछ ताप दूँ तुमको । उसे अपनी कोख में छिपा लिया था और रवि जिसकी सर्दी से हृदय धड़कन बढ़ गई थी यह कहते हुए , साँझ ! मुझे दुपका लो अपने हृदयतल में। साँझ में समा गया था । अंग से अंग सटाये दोनों को आभास न हुआ कब रात हुई और कब सुबह ।

सूर्य आकाश में अपनी रश्मियों के साथ चमक रहा था वहीं किरणें उन दोनों पर पड़ रही थी ।

साँझ ने झकझोरते हुए कहा , ” रवि , उठो । माँ याद कर रही होंगी , उठो और जाओ घर ।

रवि चलता गया , कदम बढाने के साथ -साथ साँझ के साथ बिताए पल भी आगे ही आगे बढ़ते जा रहे थे ।

जवानी भी किसी रूपसि कम नहीं होती जो अपने अंग -प्रत्यंग की खुशबू दूसरे में बसा जीना दुश्वार कर देती है और कल्पनालोक के संसार में विचरण करने को मजबूर कर अपने को किसी राजकुमार से कम भास नहीं कराती ।

कालेज से घर के रास्ते को लोटते हुए रवि की निगाह बरबस उस इमारत पर टिक जाती थी
जो मुगलकाल में बनी थी , जहाँ रवि और साँझ का प्रथम प्रणय शुरू हुआ था । प्राय: होठों से बुदबुदाते हुए मुस्कराहट के साथ पुकार बैठता था “साँझ , तुम कहाँ हो, कब आओगी “पर साँझ की अनुपस्थिति में एक आवाज अन्तस से आती और गूँज उठती -“रवि ! रवि !

मैं यहीं तुम्हारे पास हूँ और हमेशा , हमेशा के लिए ।

बस इन्तजार है उस दिन का जब तुम पढ़ाई पूरी करने के बाद मुझे अपनी दुल्हन बना हमेशा के लिए मुझे ले जाओगें ।

साँझ भावुक को अपनी निजता को खोलने लगी , रवि , ” पता है पापा ने एक लड़का देखा लेकिन तुम को छोड़ और किसी को जिन्दगी भर को अपना कहना रवि !अब सम्भव नहीं ।
इतना सुनकर रवि कहता , “तुम अस्वीकार क्यों नहीं कर देती ” । इतना कहकर ऐसे टिप्स रवि बताता कि साँझ का रिश्ता गैर से कभी न जुड़ पाये ।

हर रोज दोनों का मिलना जारी रहा , शाम के समय घूमते हुए रवि साँझ कीएक झलक पाने को आतुर रहता ।जब देख लेता तो दिल को सुकून मिल जाता और न देखने पर खोया – खोया सा रहता । पेम की खुमारी भी बड़ी तीव्रता से चढ़ती है ,कुछ नहीं सूझता उसके आगे । रोजमर्रा की दिनचर्या में के रंग – ढंग अहीब से हो जाते है , यहीं हाल रवि का था ‘ ।

रवि को बुझा – बुझा सा देखकर उसकी दोस्त हपिल पूछ ही बैठा “रवि ! क्या हुआ ? लेकिन रवि की चुप्पी से ही कपिल को अपने प्रश्न का उत्तर मिल चुका था । तब कपिल ने कुछ पूछना आवश्यक नहीं समझा ।

एक दिन साँझ आॅफीस से घर जाते हुए मिल गयी। रविदने उसका हाथ अपने हा थ में ले लिया और कहा , साँझ चलें , इस दुनियाँ से बहुत दूर । क्षण भर को प्रेमी मन साथ -साथ हो लिया लेकिन फोन की घंटी बतजते ही सँभल कर बोली , नहीं रवि , पापा का फोन है ऐसा कहकर रवि का हाथ झटकते हुए चलने लगी , लेकिन रवि ने पुकारते हुए कहा , रूको जस्ट वन मिनट , मत जाओ साँझ , तुम मेरी हो ।

जैसे परमपिता ने दोनों के बीच कोई कनेक्शन स्थापित कर रखा हो साँझ रूक गयी , रवि बात सुन रहा और एक बिजली सी चमक साँझ के अन्तर प्रकाशमान हो कहने लगी , साँझ ! बस तुम मेरी , केवल मेरी हो ।

डॉ मधु त्रिवेदी

Author
डॉ मधु त्रिवेदी
डॉ मधु त्रिवेदी प्राचार्या शान्ति निकेतन कालेज आगरा स्वर्गविभा आन लाइन पत्रिका अटूट बन्धन आफ लाइन पत्रिका झकास डॉट काम जय विजय साहित्य पीडिया होप्स आन लाइन पत्रिका हिलव्यू (जयपुर )सान्ध्य दैनिक (भोपाल ) सच हौसला अखबार लोकजंग एवं ट्र... Read more
Recommended Posts
बारिश वाली रात
रवि को फिर वहीं रात याद आ गयी , मूसलाधार बरसात हो रही थी और साँझ ने यह कहते हुए "आओ , मेरे पास ।... Read more
रात भर याद तेरी सताती रही!
रात भर याद तेरी सताती रही! ===================== रात भर याद तेरी सताती रही! याद आती रही याद जाती रही! रात भर सोचता ही रहा हूं... Read more
मुक्तक
मुझको फिर भूली हुई बात याद आयी है! चाहत की सुलगी हुई रात याद आयी है! मैं मुन्तजिर हूँ आज भी दीदार का तेरे, मुझको... Read more
मुक्तक
तेरी मुलाकात मुझे याद आ रही है! भीगी हुई रात मुझे याद आ रही है! खोया हुआ हूँ फिर से यादों में तेरी, शबनमी बरसात... Read more