23.7k Members 49.9k Posts

आज बहुत रोने का मन है

आज बहुत रोने का मन है
■■■■■■■■■■
भीतर से मैं टूट चुका हूँ,
आज बहुत रोने का मन है।
दूर कहीं बस्ती से जाकर,
जी भर कर सोने का मन है।

बहुत देख ली सबकी यारी,
रास न आई दुनियादारी,
झूठे रिश्तों की माया में,
मतलब की है मारा-मारी,
अपना दुख अपना है लेकिन,
और नहीं ढोने का मन है-
दूर कहीं बस्ती से जाकर,
जी भर कर सोने का मन है।

सोच रहा हूँ कुछ दिन तक मैं,
किसी शख्स का मुख ना देखूँ,
मानव निर्मित किसी वस्तु का,
पल भर का भी सुख ना देखूँ,
जो कुछ है दुनिया में अपना,
सबकुछ अब खोने का मन है-
दूर कहीं बस्ती से जाकर,
जी भर कर सोने का मन है।

मैं बोता हूँ फूल हजारों,
उग आते हैं शूल हजारों,
मेरे उर में फैल चुके हैं,
चारों तरफ बबूल हजारों,
काँटों का है बिस्तर मेरा,
अब काँटा होने का मन है-
दूर कहीं बस्ती से जाकर,
जी भर कर सोने का मन है।

कद्र नहीं मेरा है कोई,
नित नित अपमानित होता हूँ,
भोलापन मेरी कमजोरी,
भोलेपन में सब खोता हूँ,
ग़म के केवल दाग मिले जो,
मिटे नहीं धोने का मन है-
दूर कहीं बस्ती से जाकर,
जी भर कर सोने का मन है।

– आकाश महेशपुरी
दिनांक- 20/06/2019

1 Like · 252 Views
आकाश महेशपुरी
आकाश महेशपुरी
कुशीनगर
221 Posts · 41.4k Views
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा माता- श्री मती...