Reading time: 1 minute

आज फिर

आज फिर तनहाई में तुम्हे याद किया है ।
आज फिर दिल के बंधन को आजाद किया है ।

आज फिर ये हवाएँ तेरा पैगाम लाई है ।
आज फिर कोई चिठ्ठी मेरे नाम आई है ।

आज फिर मैने तुमको सपनों में देखा है ।
आज फिर कोई तीर मेरे दिल पे तुमने फेंका है ।

आज फिर कोई मुझसे मिलने को आया है ।
आज फिर मेरे सामने मेरा ही साया है ।

आज फिर एक तोहफा अनमोल आया है ।
आज फिर मेरे यार का Miscall आया है ।
……..मुकेश पाण्डेय

1 Like · 33 Views
Copy link to share
Mukeshkumar PANDEY
6 Posts · 291 Views
Hi,I am a Teacher Of Biology,Born in Ahmedabad (Gujarat).I am a nature lover,i have great... View full profile
You may also like: