.
Skip to content

आज दुनियाँ बन गई बाजार है. (गीतिका)

ईश्वर दयाल गोस्वामी

ईश्वर दयाल गोस्वामी

गज़ल/गीतिका

December 11, 2016

गीतिका
छंद-आनंद-वर्धक,
मापनी- २१२२,२१२२,२१२ ।
(गालगागा,गालगागा,गालगा)
सीमान्त- आर, पदान्त- है ।

गीतिका

आज दुनियाँ बन गई बाजार है ।
आदमी को लाभ की द़रक़ार है ।
भाड़ में जाए धरम, इंसानियत ,
इस तरह चलती यहाँ सरकार है ।
मौत के काँटे बिछे हर राह में ,
घृणा की ही यहाँ पर भरमार है ।
हर तरह अन्याय करते जो यहाँ ,
मिला उनको न्याय का अधिकार है ।
खनकते हैं स्वर्ण के सिक्के वहाँ ,
जहाँ पर पाज़ेब की झनकार है ।
मिटे को ही सब मिटाते हैं यहाँ ,
उग रहे सूरज की जय-जय-कार है ।
ज़िंदग़ी चलती ख़ुदा तेरे भरोसे ,
हुआ मुझको तुझसे बेहद़ प्यार है ।

ईश्वर दयाल गोस्वामी ।
कवि,शिक्षक ।

Author
ईश्वर दयाल गोस्वामी
-ईश्वर दयाल गोस्वामी कवि एवं शिक्षक , भागवत कथा वाचक जन्म-तिथि - 05 - 02 - 1971 जन्म-स्थान - रहली स्थायी पता- ग्राम पोस्ट-छिरारी,तहसील-. रहली जिला-सागर (मध्य-प्रदेश) पिन-कोड- 470-227 मोवा.नंबर-08463884927 हिन्दीबुंदेली मे गत 25वर्ष से काव्य रचना । कविताएँ समाचार... Read more
Recommended Posts
गीतिका को समर्पित गीतिका
गीतिका को समर्पित गीतिका ■■■■■■■■■■■■■■ दिल को' करती है' हर्षित विधा गीतिका, अब तो' सबको समर्पित विधा गीतिका। ~~~ है न चोरी का' भय ही,... Read more
अजनबी सी हवा की लहर हो गयी।
*गीतिका* अजनबी -सी हवा की लहर हो गई। कुछ खफा आज शामो-सहर हो गई। एक वो बेखबर है मेरी प्रीत से। और पूरे जहां को... Read more
नोट-बंदी
हर तरह से हर गति अब आज मंदी हो गई । जब से मेरे देश में ये , नोट-बंदी हो गई । मिट्टी के भाव... Read more
गीतिका....... ------------------- सत्य के लब देखो सिले हैं।
गीतिका....... ------------------- सत्य के लब देखो सिले हैं। असत्य के चेहरे खिले खिले हैं। * हमने सत्य का साथ दिया है पर देखो सबके होठों... Read more