.
Skip to content

” आज तुमको क्या हुआ है ” !!

भगवती प्रसाद व्यास

भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "

गीत

January 11, 2017

दरकते दर्प से रिश्ते ,
हमेशा मुंह चिढ़ाते हैं !
हों डूबे भावना में जब ,
कुछ कह न पाते हैं !
बहके बहके से अधर हैं ,
आज क्यों सिमटी हया है !!

सिसकती सांस है जैसे ,
पैमाना भरा सा है !
नहीं लज़्ज़ा है आँखों में ,
ज़ख्म भी वो हरा सा है !
खोया खोया कहीं है मन ,
आज क्यों बदली हवा है !!

पराजित हो गये जैसे ,
सभी संस्कार अपने हैं !
कहीं तुम टूट कर बिखरे ,
कहीं छूटे वे अपने हैं !
नहीं है ठौर संयम का ,
वक़्त ये करता बयां है !!

Author
भगवती प्रसाद व्यास
एम काम एल एल बी! आकाशवाणी इंदौर से कविताओं एवं कहानियों का प्रसारण ! सरिता , मुक्ता , कादम्बिनी पत्रिकाओं में रचनाओं का प्रकाशन ! भारत के प्रतिभाशाली रचनाकार , प्रेम काव्य सागर , काव्य अमृत साझा काव्य संग्रहों में... Read more
Recommended Posts
क्यों बेदहमीं है
आप तो आप हो जी, हम हमीं हैं सब कुछ तो ठीक है मगर तो फ़िर कहाँ कमी है ! ----------------- है सूर्य देवता ऊपर... Read more
आज का नवयुवक
आज का नवयुवक अजीब हाल में दिखता है आज का नवयुवक जागा है मगर कुछ खोया खोया सा हँसता भी है पर कुछ रोया-रोया सा... Read more
गीत- टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं
गीत- टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं ★★★★★★★★★★★★★★★ जिन्दगी के लिए सिलसिला ये कहीं, टूट जाए नहीं हौसला ये कहीं। ★★★ कर्म से ही यहाँ... Read more
आज फ़िर तेरी याद ने
आज फ़िर तेरी याद ने वो खोया हुआ पल लौटा दिया आज फ़िर तेरी याद ने वो उलझा हुआ कल सुलझा दिया याद है वो... Read more