.
Skip to content

आज गीदड़ भी शेर है,

Dr. Mahender Singh

Dr. Mahender Singh

शेर

November 13, 2017

*भिगा हुआ हु पर लिप्त नहीं,
किंतु “प्रेस के कोट” वाले दूर रहे !
शायद क्रीज खतरे में हो,
गंदा तो पहले से ही बहुत है,
.
इतिहास को देखकर जीने वालों,
ताजमहल तो बना नहीं पाये,
जो साख है उसे तो संभाल लो,
.
भक्त की कल्पना, मीरा के गीत,
बुद्ध का जागरण,
भक्ति आंदोलन में कबीर, रैदास आदि
सोए हुओं को तो जगा गए,
पर पाखंडी आज भी संग्रहालय में मौजूद है,
.
पढ़े लिखे हो तो पढ़ जरूर सकते हो,
समझ नहीं सकते चाबी मेरे पास है,
Mahender Singh Author at

Author
Dr. Mahender Singh
(आयुर्वेदाचार्य) शौक कविता, व्यंग्य, शेर, हास्य, आलोचक लेख लिखना,अध्यात्म की ओर !
Recommended Posts
एक संतान शेर समान
(एक संतान शेर समान" परिवार नियोजन के इस नारे पर एक छंद) हवा बंद है सरकारी नौकर हूं एक पुत्र पैदा किया, शेर के समान... Read more
दिवाली और मेरे शेर
दिवाली और मेरे शेर दिवाली का पर्व है फिर अँधेरे में हम क्यों रहें चलो हम अपने अहम् को जलाकर रौशनी कर लें ************************************* दिवाली... Read more
पिक्चर का आज टेलर दिखा दिया है मोदी जी
पिक्चर का आज टेलर दिखा दिया है मोदी जी दुश्मन को भी मजा आज चखा दिया है मोदी जी अब लगा है की दिल्ली की... Read more
मतला और एक शेर
Abhinav Saxena शेर May 11, 2017
आसमानों के ऊपर भी कहीं कुछ जमीं है क्या, तुम्हारी आँखों में अब तक वही नमीं है क्या। फुरसत के पलों में आज हमने ये... Read more