आज गीदड़ भी शेर है,

*भिगा हुआ हु पर लिप्त नहीं,
किंतु “प्रेस के कोट” वाले दूर रहे !
शायद क्रीज खतरे में हो,
गंदा तो पहले से ही बहुत है,
.
इतिहास को देखकर जीने वालों,
ताजमहल तो बना नहीं पाये,
जो साख है उसे तो संभाल लो,
.
भक्त की कल्पना, मीरा के गीत,
बुद्ध का जागरण,
भक्ति आंदोलन में कबीर, रैदास आदि
सोए हुओं को तो जगा गए,
पर पाखंडी आज भी संग्रहालय में मौजूद है,
.
पढ़े लिखे हो तो पढ़ जरूर सकते हो,
समझ नहीं सकते चाबी मेरे पास है,
Mahender Singh Author at

Like Comment 0
Views 135

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share