31.5k Members 51.9k Posts

आज गीदड़ भी शेर है,

Nov 13, 2017 12:57 PM

*भिगा हुआ हु पर लिप्त नहीं,
किंतु “प्रेस के कोट” वाले दूर रहे !
शायद क्रीज खतरे में हो,
गंदा तो पहले से ही बहुत है,
.
इतिहास को देखकर जीने वालों,
ताजमहल तो बना नहीं पाये,
जो साख है उसे तो संभाल लो,
.
भक्त की कल्पना, मीरा के गीत,
बुद्ध का जागरण,
भक्ति आंदोलन में कबीर, रैदास आदि
सोए हुओं को तो जगा गए,
पर पाखंडी आज भी संग्रहालय में मौजूद है,
.
पढ़े लिखे हो तो पढ़ जरूर सकते हो,
समझ नहीं सकते चाबी मेरे पास है,
Mahender Singh Author at

136 Views
Mahender Singh Hans
Mahender Singh Hans
महादेव क्लीनिक, मानेसर 122051
319 Posts · 14k Views
निजी-व्यवसायी लेखन हास्य- व्यंग्य, शेर,गजल, कहानी,मुक्तक,लेख
You may also like: