Skip to content

आज के सूचनाक्रान्ति के युग में स्कूल जा रहे बच्चे का भविष्य ? स्कूल की जिम्मेदारी ?

Raju Gajbhiye

Raju Gajbhiye

लेख

September 19, 2017

आज के सूचनाक्रान्ति के युग में स्कूल जा रहे बच्चे का भविष्य ? स्कूल की जिम्मेदारी ?

बच्चे हर मानव के लिए जीवन का सबसे महत्वपूर्ण हिस्सा है , बच्चों का भविष्य बनाने के लिए ही अभिभावक अपने बच्चे को अच्छे से अच्छा स्कूल में भर्ती करता है | उसे पढ़ने हेतु किसी भी प्रकार से अपने जीवन में समझोता , कटोत्री करकर बच्चों को अच्छे स्कूल में भेजते है |

आज जो कान्वेंट के चमचमाते स्कूल देखे है , बस सामने से बड़े – बड़े अक्षर में अर्थपूर्ण नाम के स्कूल , बड़े राजकीय नेता के स्कूल और वहाँ के कर्मचारी , मैनेजर इनकी बुद्धिमता , विवेकता , आचरण जैसे दिखेंगे वैसे बिलकुल नहीं , हर समय अलग – अलग रोल में मिलेंगे , पूर्ण रूप से मनोविकारी , खुद को सबसे ज्ञानी , अपनी ही बातो को महत्व देंगे , नियम खुद बनायेगे , खुद तोड़ेगे | प्रिंसिपल महोदय बस रबर स्टाम्प , अभिभावक को मक्खन लगाना और मैनेजमेंट को भी सभालना दोनों को हा , हा करना और अच्छी खासी सैलरी लेना , मुझे क्या लेना देना , बाकि जबाबदारी टीचर तो है ना ? और सबसे ज्यादा समज़दार , सम्पूर्ण ब्रह्माण्ड का ज्ञाता , किसीको भी तर्क नहीं करने देना , जो तर्क करता है , उसका काम लगाना वह महाशय स्कूल का समन्वयकर्ता | खुद हर समय तर्क – वितर्क करेंगे , लेकिन दूसरे ने किया उनका दिमाख ख़राब करेंगे | अब बात करते है स्वागताध्यक्ष महोदय की यह अपने आप को लोकसभा – राज्यसभा से भी बढ़कर समझेगा , हर समय रूल , नियम कायदे , यहाँ बैठो , आपके बच्चों ने , आपने नियमो के पालन नहीं किया , लिखकर दो | साफ – सफाई करने वाले , बच्चों को सम्भालनेवाले यह तो मौका पाकर क्या हरकत कर देंगे , यही प्रश्न बड़ा है , इससे ज्यादा बस में ठुस्स – ठुस्स कर भरकर बच्चों को लाने वाले ड्रावर , कंडक्टर , उसे सभालनेवाल सहायक यह भी अपने आप में अनोखे विचारवान मनुष्य रहते है , दया , करुणा , प्रेम सभी उनमे रहकर भी आखिर में विकृत मानसिकता की श्रेणी में आते है | स्कूल के बहार रहने वाले गार्ड यह तो जैसा बोलेगे वैसा ही करना है , कभी – कभी गार्ड भी अनोखे कारनामे करते है , उनके सामने से बच्चों को कोई लेकर जायेगा लेकिन कुछ जानकारी नहीं , अपने ही जीवन की गाड़ी कैसे चलाये यही उलझन में खड़े – बैठे रहना | ग्राउंड की देखभाल करने वाले , योग शिक्षक यह भी महाशय बच्चों के ऊपर अपना गुस्सा निकालना ,किसी प्रकार से बच्चों का गुस्सा करना और किसी भी अभिभावक का मनगंढत विचार रखना |

सब जानते है की शिक्षक गुरु से भी बढ़कर होते है , उनका आदर सत्कार में किसी भी प्रकार से कोई कमी अभिभावक रखते नहीं | लेकिन शिक्षक स्कूल के कार्य से दबे रहते है | कार्य के दबाव के कारण व अपनी भी कुछ न कुछ व्यक्तिगत परेशानी से बच्चों पर गुस्सा निकालते है | आज भी अच्छे शिक्षक है , वह बराबर व्यव्हार करकर बच्चों का भविष्य बना रहे है , अच्छे शिक्षक हमेशा सम्मानीय होते है |

बहोत से अभिभावक है जो लड़ाई झगड़े के विचार में ही रहते है , शिक्षक की सुनते नहीं , अपने बच्चों की कमी देखते नहीं , हमेशा शिक्षक को ही दोषी ठहराते है | लेकिन मैनेजमेंट की राजनीती के राजनेता शिक्षक जो भी अभिभावक शिकायत लेकर आता है उसके बच्चे को टारगेट करकर उसका भविष्य बर्बाद करकर रखता है , बच्चों को प्रताड़ित करना , बच्चे की किसी भी विषय में कमी निकालना , बच्चे को हर बार सही मूल्यांकन नहीं करना , उसे फेल करना आदि , आदि | अभिभावक ऐसे राजनेता शिक्षक से ऐसे डरते है की ,
अगर ज्यादा शिकायत करुगा तो मेरे बच्चे का परीक्षा परिणाम ख़राब होगा | इसीलिए अभिभावक किसी भी शिक्षक की शिकायत करते नहीं | जो भी शिकायत करेगा , उसके बच्चे का काम लग जायेगा समझो | यही बड़े नाम वाले स्कूल में हो रहा है | अपने बच्चों के खातिर बिचारे माँ – बाप चुप रहते है |

नई गाइड लाइन से सुरक्षा पर विचार विमर्श करकर बच्चों की सुरक्षा पर ठोस कदम उठाये जा रहे है , अभिभावक को भी अपने बच्चों की सबसे ज्यादा जिम्मेदारी है , स्कूल के भरोसे पर ज्यादा रहना नहीं ,
अपने बच्चों की जिम्मेदारी अपनी ही है |

स्कूल ने भी अपनी पारदर्शिता रखना चाहिए | गाइड लाइन का पालन करना चाहिए , ऑडिट रिपोर्ट बराबर पेश करना चाहिए | डमी , गलत जानकारी नहीं देना चाहिए |

बच्चे सच्चे मन के होते है , उसे डराया जाता है , बच्चे हर गतविधि अपने माता पिता को बताना चाहिए , बच्चों को भी अभिभावक ने पूछना चाहिए , बच्चा गुमसुम हो तो तुरंत जानकारी ले , क्या कमी है देखे |बच्चों का बचपन मत खोने दो , उसे पढ़ने दो , उसे खेलने दो , उसका विकास होने दो , बच्चे ही आगे भावी भविष्य है |

– राजू गजभिये

Share this:
Author
Raju Gajbhiye
परिचय - मैं राजू गजभिये , मूलतः यवतमाल ( महाराष्ट्र) मातृभाषा मराठी , वर्तमान में बदनावर जिला धार (मध्य प्रदेश ) कश्यप स्वीटनर्स लिमिटेड में कार्यरत | किताबे पढना एव लेखन | अपितु लिखने का शौक है | व्यग ,... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you