आज की बेटी

है अग्रसर देश मेरा
पर आज की बेटी कहां है

खुद की आवाज बनती
खुद बिखरती खुद संवरती
पर आज की बेटी कहां है

है ज्वलित हर मुद्दा यहां
खोदता हुआ गड़ा मुर्दा यहां
पर आज की बेटी कहां है

न पक्ष न कोई विपक्ष है
बह रहा स्त्री का दर्द है
पर आज की बेटी कहां है

खोजती रही झरोखों में उजाले
आज के सूरज को देखा कहां है
पर आज की बेटी कहां है

-सोनिका मिश्रा

1 Like · 138 Views
Sonika Mishra
Sonika Mishra
29 Posts · 5.4k Views
मेरे शब्द एक प्रहार हैं, न कोई जीत न कोई हार हैं | डूब गए...
You may also like: