आज-काल के लड़का-बिटिया

आज-काल के लड़का-बिटिया
अइसन मारत हें स्टाइल ।
काने मा खोंसे इयर फोन
लै दुई हाथ मोबाइल ।।

रात-रात मोबाइल मा
करत हेमयं ईं बात ।
नींद खुलय जब पापा के
ता मारैं इनही लात।।

बात के आगें सबय बिसर गें
ना लागय भूख-पिआस।
लड़कन का सुधारयं मा( घर के )
कर डालिन अथक प्रयास ।।

आज-काल के लड़का-बिटिया
टाइम करत हें वेस्ट ।
सर्च मार के एफ.बी., इंस्ट्रा
मा भेजत हेमयं रिक्वेस्ट ।।
गलती से जो एक्सेप्ट किहिन ऊं
ता देखा उनखर रेरा ।
हाय-हेलो अउर एजी-ओजी
भेजयं तीसन बेरा।।

टीप-टाप तो बनय रहय
होटल मा पियॅअ ईं काफिंग।
चड्ढी तक जे खरीदिन न होइहैं (अपने से)
करैं ऑनलाइन शापिंग ।।

लड़कन का तो छोड़ देया
सयाॅनव मोबाइल गूलयं।
टथिया परसी धरी रहय
खाना-पीना भूलयं।।

अरे ए.के.भइया खुदय बिजी हें
या मोबाइल के जाल मा।
सीधे कबहू न देखिहैं भइया
चलत हें अपने चाल मा।।

बघेली
✒✒ AK

Like 1 Comment 0
Views 61

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share