Skip to content

“आजादी चाहिए”

Jagdish Gulia

Jagdish Gulia

कविता

August 15, 2016

अब भी हमें आजादी चाहिए,
भ्रस्टाचार और बेईमानी से ।
कब हमको निजात मिलेगा,
इस आंतकवाद पाकिस्तानी से ।।

देश को अभी आजादी चाहिए,
आरक्षण की काली छाया से ।
इन नेताओ को मुक्ति चाहिए ,
काले धन की मोह माया से ।।

जरा दुरी हमें बनानी होगी ,
इस चीन देश अभिमानी से ।
अब भी हमें आजादी चाहिए,
भ्रस्टाचार और बेईमानी से ।

बहिष्कार हमे करना होगा,
इस चाइना के सामान का ।
बदला हमको लेना होगा ,
ऐन एस जी के अपमान का ।।

बहनो को आजादी चाहिए,
बदमाशो की मनमानी से ।
अब भी हमे आजादी चाहिए,
भ्रष्टाचार और बेईमानी से ।।

संस्कृति हमे बचानी होगी ,
पश्चिम की नंगी आंधी से ।
देश को अब छुटकारा चाहिए,
नेहरू जी और गांधी से ।।

अब सीख हमे लेनी होगी ,
सच्चे वीरों की कुर्बानी से ।
अब भी हमें आजादी चाहिए,
भ्रस्टाचार और बेईमानी से ।।।

रचनाकार :—- जगदीश गुलिया

Share this:
Author
Jagdish Gulia
Hi I am Jagdish Gulia . Dy. manager Finace & Accounts with a public Ltd. Co. Writting of satirical poem , Harvanvi geet ,sharo-shayri and Quotes etc.

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you