आजमाना आ गया ...!!

खुद में खुद को आजमाना आ गया ।
रोज कुछ तरकीबें और कुछ बहाना आ गया ।
शायद अब तन्हां नही रहा मैं
मेरे पीछे सारा जमाना आ गया ।
इश्क़ में शायद थोड़े थे परेशान
अब तो गम को भी छुपाना आ गया ।
मैंने खुद को देखा कभी पुरानी तस्वीरों में ,
याद बचपन का ज़माना आ गया ।
रिश्तों की बागडोर समझ आयी नही कभी ,
अब हर रिस्ते निभाना आ गया ।
ज़माना अब नही झेलता तन्हाईयों को ..
उन्हें भी अब थोड़ा हसाना आ गया ।
अब मुझे कोई फर्क़ नही पड़ता …
खुद से खुद को दिल लगाना आ गया ।
तुम जो आयी मेरी जिंदगी में ,
ऐसा लगा कोई खजाना आ गया ।

:-हसीब अनवर

Like 3 Comment 0
Views 40

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing